परमेश्वर से प्रार्थना में शक्ति है। आओ जाने कैसे की जाती है प्रार्थना।
हमसे जुड़ें

क्या परमेश्वर से प्रार्थना में शक्ति है?

भगवान

क्या परमेश्वर से प्रार्थना में शक्ति है?

प्रार्थना का दिल क्या है?

एक छोटी बच्ची अदिति अक्सर अपने पिता की गोद में बैठकर सोने से पहले सिंड्रेला की कहानी सुनती थी। उसे वह कहनी बहुत पसंद थी इसलिए वह उस कहानी को हर रात सुनना मांगती थी। पर कुछ महीनों बाद पिता को एक विचार आया। पिता ने टेप में उस कहानी को रिकॉर्ड कर लिया और अदिति को दिया कि वह हर रात उसे सुन सके। अदिति ने विरोध किया तो पिता ने जवाब दिया कि वह उस कहानी को कई बार और कभी भी सुन सकती थी। फिर भी अदिति ने बड़े मासूमियत से अपने पिता की ओर देखा और कहा “हां! लेकिन फिर मैं आपकी गोद में बैठने का मौका खो दूंगी!”। दुनिया का बनाने वाला, हम सबको बनाने वाला भी हमसे रोज बात करना चाहता है और वह प्रार्थना से संभव हो पाता है

प्रार्थना क्या है?

प्रार्थना क्या नहीं है:

  • यह समझना कि जो मांगा वह पूरा ही होगा।
  • केवल एक अलादीन का चिराग नहीं।
  • केवल संकट में बजाने वाला बटन।
  • कोई दिखावे की बात।
  • कोई जादू या मैजिक।
  • केवल कुछ शब्दों और मंत्रों का जाप करते रहना।

लोग प्रार्थना,पूजा-पाठ क्यों करते हैं?

  • अपनी इच्छाओं और जरूरतों को पूरा करने के लिए।
  • धम और रीति-रिवाज के कारण।
  • पूजा पाठ करना अच्छा माना जाता है।
  • मंत्र और श्लोक पढ़ने से लोग कुछ समय के लिए शांति पाते हैं।

बाइबल का मंत्र:

“मांगो तो तुम्हे दिया जाएग ढूंढो तो तुम पाओगे खट खटआओगे तो खोला जाएगा”
– मती 7:7

क्योंकि जो मांगता है उसे मिलता है; और जो ढूंढता है वह पाता है; और जो खटखटाता है उसके लिए खोला जाएगा! हमारी सबसे अच्छी मांग भी उस महान परमेश्वर को जो बढ़कर देना जानता है, छोटी दिखाई देती है। इसलिए प्रार्थना में ऐसे मांगो जैसे एक मुसाफिर रास्ता ढूंढे, वैसे मांगो जैसे कोई कीमती चीज खो गई हो,या फिर वैसे खोजों जैसे एक सोदागर कीमती मोती को खोजे, दस्तक दे जैसे कि कोई द्वार के बाहर हो और अंदर प्रवेश करना चाहता हो!

जब हम परमेश्वर से सही वस्तुएं मांगते हैं जो हमारी हानि की नहीं तो वह क्यों नही देगा?
एक उदाहरण दिया है कि तुम में से कौन सा ऐसा पिता है जिसका पुत्र उससे रोटी मांगे और वह उसे पत्थर दे? या जब वह उससे मछली मांगे तो वह उसे साप दे! इसलिए अगर चाहे तुम बुरे ही क्यों ना हो लेकिन जानते हो कि अपने बच्चे को अच्छा उपहार कैसे दिए जाता है तो निश्चय ही स्वर्ग में स्थित हमारा पिता मांगने वालों को अच्छी वस्तुएं देगा!

आज यह पिता, यह परमेश्वर आपकी प्रार्थनाओं को पूरा करना चाहता है; क्या आप इस परमेश्वर को जानना चाहते हैं?

बाइबल का परमेश्वर, यीशु मसीह इसलिए प्रार्थना का उत्तर दे सकता है क्योंकि वह:

-जीवित है और प्रार्थना सुनता है।
-भरोसेमंद है: जो निराश नहीं करता।
सर्वशक्तिमान है: जो आशीष देने में सामर्थी है।
-अपरिवर्तनीय है: जो अपने वायदे से बदलता नहीं।
सर्वज्ञानी है: आपकी समस्याओं से अनजान नहीं।
भलाई करने वाला: जो भरपूरी से देता है।

यीशु मसीह आज आपके दिल के द्वार पर खटखटाता है। अगर हम उसके लिए अपना दिल खोल दे तो वह हमें पाप से मुक्त जीवन देकर स्वर्गीय आशीषों की बरकतों से परिपूर्ण करने की मंसा रखता है।चलिए हमारे साथ इस नयी मंज़िल पे।

To Top