पॉर्न एडिक्शन: पॉर्न की लत के नुक्सान। क्या पॉर्न प्यार की परिभाषा है? | Porn Addictions |
हमसे जुड़ें

पॉर्न एडिक्शन: पॉर्न की लत के नुक्सान। क्या पॉर्न प्यार की परिभाषा है? | Porn Addictions |

पॉर्न एडिक्शन: पॉर्न की लत के नुक्सान। क्या पॉर्न प्यार की परिभाषा है? | Porn Addictions |

प्यार

पॉर्न एडिक्शन: पॉर्न की लत के नुक्सान। क्या पॉर्न प्यार की परिभाषा है? | Porn Addictions |

पॉर्न – सही या ग़लत! पॉर्न किसी दबी हुई समस्या का संकेत तो नहीं?! पॉर्न कैसे आपके रिश्तों को प्रभावित करता है? पॉर्न के इस विनाशकारी लत से छुटकारा पाने में हम आपकी मदद करना चाहते हैं।

मुझे रोज़ पॉर्न देखना पसंद है। पॉर्न से कितना कुछ सिखने को मिलता है, इसमें क्या गलत है? मेरे शादी शुदा ज़िन्दगी अच्छी हो जाएगी ना पॉर्न से? 

पॉर्न देखने के कुछ आंकड़े

पॉर्न देखने के मामले में भारत पूरी दुनिया में तीसरे नम्बर पर आता है। हैैरान मत होइये! यह बात सच है। पिछले पाँच सालों में भारत में औसतन 121% ज़्यादा लोगों ने इसे देखा है और यह संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। इन्टरनेट पर कुल मिलाकर 800 से ज़्यादा पॉर्न या अश्लील वीडीयो के वेबसाइट्स हैं। भारत में लगभग 70% पुरुष और 30% महिलाएँ रोज़ाना पॉर्न देखते हैं।

ये आपके लिए चौंकाने वाली बात होगी कि पूरी दुनिया में पॉर्न इंडस्ट्री या अश्लील फ़िल्मों को बनाने के पीछे हर साल लगभग 9700 करोड़ डॉलर ख़र्च किये जाते हैं जिससे इस बात का अन्दाज़ा लगाया जा सकता है कि दुनिया भर के कई लोग किस तरह इस नशे में डूबते चले जा रहें हैं।

तो क्या गलत है अश्लील वीडियोस देखने में? क्या है इस लत के लक्षण? तो क्या मुझे पॉर्न की लत है? 

पर क्यों देखते है हम पॉर्न ?

1. दिल का खालीपन: हमारे दिल की गहरी ख़वाहिशें जैसे दोस्ती, ख़ुशी, प्रेम, चाहत, शांति, संतुष्टि हम हर जगह खोजते हैं। इसलिए हम स्वाभाविक तौर पर अकेलेपन से दूर रहना चाहते हैं। अगर यह पूरी नहीं होती तो अश्लील वीडियोस के झूठ में हम ख़ुशी ढूंढ़ते है।

2. बचपन की आदत:  कुछ लोगों का यह भी कहना है कि उनके बचपन से वह कई अलग-अलग अश्लील चित्रों या वीडीयो को देखते-देखते, उन्हें इसकी आदत लगी।

3.शोषण: कई बार हममे से कई शोषण के शिकार होने की वजह से इसमें पढ़ जाते है।

4. यौन शिक्षा की कमी: अगर बच्चों को सेक्स के बारें में ना बताया जाए तो वह उत्सुकता में इसकी एडिक्शन में पढ़ जाते हैं।

क्या आप इससे सहमत है? और कई वजाएँ है की हम पॉर्न की ओर आकर्षित होते है।‘अश्लीलता की लत’ लोगो को बलात्कार करने की ओर ले जाती है। यह आपके मन और दिमाग को पूरी तरह तबाह कर देती है। यह एक शैतान के जैसे तभाही फैलता है।

तो क्या मुझे पॉर्न की लत है? लक्षण और नुकसान :-

1. अश्लील तस्वीरों का हर समय दिमाग में घूमते रहना

2. जीवन की ज़रुरतों को अनदेखा करते हुए इस लत में पड़े रहना

3. लोगों के साथ सामान्य आपसी रिश्ते खराब होना

4. अपने पति या पत्नी के साथ असामान्य शारीरिक सम्बन्ध

5. स्त्री या पुरुष को एक साधारण सा शरीर या वस्तु समझना

6. इसे एक लत के रुप में न मानना

7.आप इसे अपने मूड को बदलने के लिए देखते है।

अश्लील वीडियोस की लत (पॉर्न एडिक्शन से छुटकारा)

अगर आप इसकी लत से जूझ रहें है तो इसमें शर्म की कोई बात नहीं है। मनुष्य का मन एक खाली जगह के समान है, जिसे वह चाहे तो जिस चीज़ से भी भर ले पर उसे सिवाय प्रभु यीशु मसीह के प्रेम के अलावा और कोई नहीं पूरा कर सकता।
पॉर्न के इस विनाशकारी लत से छुटकारा पाने में हम आपकी मदद करना चाहते हैं। अगर आप इस लत से छुटकारा पा कर एक  खुशहाल ज़िन्दगी जीना चाहते हैं तो हमारे दिये गए फ़ोन नम्बर पर हमसे सम्पर्क करें।आप इसकी लत से छुटकारा पा सकते हैं। आओ हमारे साथ इस नयी मंज़िल पे!


To Top