मैं अपनी शादी से ख़ुश नहीं हूँ। ख़ुशी पाने के उपाये
हमसे जुड़ें

मैं अपनी शादी से ख़ुश नहीं हूँ। ख़ुशी पाने के उपाये

मैं अपनी शादी से ख़ुश नहीं हूँ

प्यार

मैं अपनी शादी से ख़ुश नहीं हूँ। ख़ुशी पाने के उपाये

शादी से ख़ुशी

 शादी अपने आप में दुनिया के सारे संबंधों से अलग है। सब की ज़िन्दगी में यह एक अहम् भूमिका रखती है। कहा जाता है कि हमारे जन्म के बाद और मौत से पहले, शादी सबसे महत्वपूर्ण चीज़ होती है जो या तो हमारी ज़िन्दगी को सुन्दर बनाती है, ख़ुशहाल करती है या नहीं तो हमारी ज़िन्दगी का सुख-चैन छीन कर इसे तबाह कर देती है…सुनने में यह बात थोड़ी अजीब या कड़वी लगे, पर यह सच है।

समाज और शादी

आप इस बात से इत्तफ़ाक रखेंगे कि किसी की शादी एक ऐसा मैटर या मसला है जिसमें परिवार के सारे लोग, यहाँ तक कि पूरा समाज भी एकजुट होता है और अपनी-अपनी अलग राय देता है।

ज़िंदगी के इस पड़ाव पर किसी भी लड़के या लड़की से यही उम्मीद की जाती है कि वह अपना जीवन साथी किसी सही व्यक्ति को ही चुने और कोई भूल-चूक न करे। हमारे समाज में एक लड़के से यही उम्मीद की जाती है कि वह पढ़-लिख कर जल्दी ही कोई ढंग का काम खोज ले या नौकरी करने लग जाए जिससे वह अपने पैरों पर खड़ा हो और अपना घर चला पाए। और फिर घर वाले उसके लिए कोई अच्छी सी लड़की, जो कि घर सम्भाल पाए, उसे ढूँढनें में लग जाते हैं, परिवार, रिश्तेदार और समाज के लोगों से इसमें मदद ली जाती है, अगुओं को बुलाया जाता है, पंडित को दिखाकर कुंडलियाँ निकाली जाती है…वगैरह-वगैरह।

यही बात एक लड़की पर भी लागू होती है। उससे घरवालों की यह आशा रहती है कि वह पढ़ाई के साथ-साथ घर का काम करना और खाना पकाना सीख जाए ताकि अपने ससुराल जा कर उसे घर सम्भालनें में कोई दिक्कत न हो। यह सब काफ़ी आम बात है हमारे समाज में…है ना…!!!

आश्चर्य की बात तो यह है कि शादी सिर्फ़ पति के लिए पैसे कमा कर घर चलाना और पत्नी के लिए घर और परिवार सम्भालना भर तो नहीं…पति और पत्नी एक दूसरे से प्यार करें, एक दूसरे का सम्मान करें यह भी तो है…पर हमारे समाज में इस बात को ज़्यादा महत्त्व नहीं दिया जाता।

आइए जानें कि हाल-फ़िलहाल में शादी-विवाह को लेकर हमारे समाज या दुनिया में क्या हो रहा है।

शादी-विवाह की ताज़ा खबरें

हाल फ़िलहाल की ख़बरों में पिछले कुछ दिनों आपने ये सब टी.वी. पर या अख़बारों में सुना और देखा या पढ़ा होगा…

1. सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के अनुसार पति या पत्नी का किसी और के साथ शारीरिक संबंध होना तलाक़ का कारण नहीं हो सकता।

2. ख़बरों में फ़ेमस सेलीब्रिटीज़ का या बॉलीवुड कपल्स का एक दूसरे से तलाक़ लेना या किसी गै़र मर्द या औरत के साथ संबंध बनाना आम बात है।

3. मिडल ईस्ट के कई सारे देशों में जैसे मिस्र, जॉर्डन, आदि में शादी-शुदा जोड़ों को सरकार की तरफ़ से ‘लव लेसन्स’ दिए जा रहें हैं ताकि उनके देश में तलाक़ के बढते मसलें कम हों।

4. कई वेस्टर्न देशों में आज भी पहले की ही तरह बच्चे अपने माँ-बाप के तलाक़ हो जाने से प्रभावित हो रहें हैं।

5. भारत में कई जगह लड़कियों कि मर्ज़ी के बगैर कम उम्र में उनकी शादी करवा देने के कारण उनके बच्चे कुपोषित पैदा रहे हैं।

इन सबके अलावा घरेलु हिंसा, अकेलापन, पति पत्नी का एक दूसरे को समय न देना, एक दूसरे के प्रति प्रेम या आदर का अभाव आदि ऐसी चीेज़े हैं जिससे पता चलता है कि लोग अपनी शादी से ख़ुश नहीं हैं। इसका बुरा प्रभाव हमारे बच्चों पर पड़ रहा है। ये बुरा प्रभाव हमारी आने वाली पीढ़ी को बर्बाद कर सकता है।

हर शादी में प्रॉब्लम्स होेते हैं और अपनी शादी से ख़ुश न होने के कई कारण हो सकते हैं…

1. बिना मर्ज़ी के घरवालों द्वारा शादी करवा देना।

2. घर में परिवार के सदस्यों का एक दूसरे के साथ समय न बिताना।

3. घरेलु प्रॉब्लम को परिवार में बैठकर आपस में न सुलझाना।

4. प्रॉब्लम को टालते रहना।

5. पति पत्नी का एक दूसरे पर दोष लगाना।

इन कारणों के अलावा एक और महत्वपूर्ण कारण यह भी हो सकता है कि कभी-कभी पति पत्नी एक दूसरे को शारीरिक सुख नहीं दे पाते, जिसकी वजह से या तो पति या पत्नी अपनी शादी से ख़ुश नहीं रहते।

लेकिन आख़िर इस समस्या का समाधान क्या है?

शादी जैसे संबंध को हर आस्था में पवित्र माना गया है। परमेश्वर के वचन बाइबिल के अनुसार शादी के बाद तलाक़ बिल्कुल उचित नहीं क्योंकि ज़्यादातर मामलों में प्रॉब्लम मेरी पत्नी या मेरा पति नहीं बल्कि मैं ख़ुद हूँ। बाइबिल कहती है कि पति और पत्नी को एक दूसरे की ग़लतियों को माफ़ करना चाहिए और एक दूसरे से प्यार करना चाहिए।

अगर आप अपनी शादी से ख़ुश नहीं हैं तो :

1. आप जैसा महसूस कर रहें हैं वैसा ही ख़ुलकर अपनी दंपति को बोलें।

2. अपने प्रॉब्लम्स के बारे में किसी बड़े से बात करें।

3. पति या पत्नी लोगों के सामने एक दूसरे की बुराई न करें।

4. जिस तरह बाइबिल के मुताबिक़ परमेश्वर ने आपकी ग़लतियों को माफ़ किया, आप भी अपनी दंपति की ग़लतियों को माफ़ कीजिए।

5. अपने प्रॉब्लम्स के बारे में आप हमसे बात कर सकते हैं। आपकी पहचान हमारे पास गोपनीय रहेगी, इस बात का विश्वास हम आपको देते हैं …. आज ही संपर्क करें।


आगे पढ़ना जारी रखें
आप इन्हे भी पढ़ना पसंद करेंगे ...
To Top