fbpx
हमसे जुड़ें

भगवान की पहचान|कहाँ हैं भगवान ?|

भगवान

भगवान की पहचान|कहाँ हैं भगवान ?|

ईश्वर अल्लाह तेरे नाम

सबको सन्मति दे भगवान्

सबसे बड़ा भगवान् कौन है

भगवान्, ईश्वर, देवता, देवों का देव – हमारी संस्कृती में कई भगवान् हैं या फिर भगवान् एक ही पर नाम अनेक। कोई कहता है ३३ करोड़ देवी देवता हैं तो कोई कहे यह एक ही ईश्वर के अनेक रूप हैं। कोई भगवान् शहर या गाँव के मंदिर में हैं, कोई किसी पहाड़ की चोटी पर, कोई गुरु के आश्रम में तो कोई गुरु खुद ही भगवान्…

बच्चो के भगवान् माता पिता और शादीशुदा स्त्री का परमेश्वर उसका पति। इतने भगवान् हैं फिर भी हम खोज रहे हैं ईश्वर को। कौन है सबसे बड़ा, शक्तिशाली और सच्चा ईश्वर?  कहाँ खोजे उसे?

हमसे chat करें

ईश्वर की खोज?

मैंने सोचा की जीवन की आपा धापी से झूझते हुए, बचपन से बहुत खोज की :

–    कॉलेज में एडमिशन खोज

–    नौकरी की खोज

–    शादी के लिए पार्टनर की खोज

पर उसे खोजने की कोशिश नहीं की जिसने इस सृष्टि की रचना की और मुझे बनाया। जब मैंने  अपनी मासी से यह बात बताई तो उन्होंने मुझे एक गुरूजी के आश्रम के जाने की सलाह दी। बताया की वो बड़े ज्ञानी हैं और ईश्वर का साक्षात् रूप हैं। आश्रम पहुँच गुरूजी का प्रवचन सुना जिसमे उन्होंने बताया

–    भगवान हमारे मन की कल्पना है। उसने हमें नहीं बनाया बल्कि हमने उसे अपनी जरूरतों के लिए बनाया है। जब हम परेशानियों से घिरते हैं तो सहारा चाहते हैं, वो सहारा अगर कोई हमारा टीचर बने तो वो टीचर ही हमारा ईश्वर है।

–    इन्सान सोचता है की ईश्वर इन्सान जैसे दिखता है, सामान्तः जानवर सोचते होंगे की ईश्वर जानवर जैसा है

प्रवचन खत्म होने पे उनका आशीर्वाद लेने अकेले में मिलने गयी। उन्होंने प्यार से सर पे हाथ फेरा उसके बाद ईश्वर का ज्ञान देते हुए शरीर के अन्य हिस्सों को हाथ लगाया। मेरे झिझक दिखाने पर उन्होंने कहा की वो अपने पवित्र हाथों से मेरा शुद्धीकरण कर रहे थे।

मैं घबरा के बाहर आई और अपनी दोस्त के पास पहुँची। मैं पूरी बात बता कर बहुत रोई की मैं तो ईश्वर को खोज रही थी पर मेरी मुलाकात तो ईश्वर का रूप लिए शैतान से हुई। 

हम में से कितने लोग इन सब चीज़ों से झूझते हैं, और शिकायत नहीं करते। हमें लगता है कि शायद यह ऐसा ही होगा। हमें नफ़रत हो जाती है किसी भी तरह के ईश्वर से। क्या ऐसा होता है ईश्वर या भगवान?

बाइबिल का ईश्वर सच्चा भगवान् है

मेरी दोस्त ने मुझे बताया की सच्चा ईश्वर यीशु मसीह है जो परमेश्वर पिता और पवित्र आत्मा में समाता है।

यूहन्ना 14:6 यीशु ने उससे कहा, “मैं ही मार्ग हूँ, सत्य हूँ और जीवन हूँ। बिना मेरे द्वारा कोई भी परमपिता के पास नहीं आता।”

मत्ती 24:5 मैं यह इसलिए कह रहा हूँ कि ऐसे बहुत से हैं जो मेरे नाम से आयेंगे और कहेंगे ‘मैं मसीह हूँ’ और वे बहुतों को छलेंगे।

1कुरंथियो 15:3-4 “पवित्र शास्त्र के वचन के अनुसार यीशु मसीह हमारे पापों के लिये मर गया और गाड़ा गया।”

ऊपर लिखी बाइबिल के यह वचन बताते हैं की:

–    यीशु मसीह सच्चे ईश्वर हैं, जीवनदाता/जीवन है और पिता परमेश्वर के पास पहुँचने का एकमात्र रास्ता है।

–    यीशु ने बाइबिल में बताया है की अन्त समय में कई लोग आएंगे जो ईश्वर को पाने के तरीके बताएँगे और हमें छलने की कोशिश करेंगे पर कोई सच्चा नहीं यीशु के अलावा।

–    इसी ईश्वर ने हमें जिंदगी दी और खुद जीवन है क्योंकि यीशु मरा और मर के तीसरे दिन जी उठा।

जो जीवन दे सकता है वही तो मुर्दे में जान डालेगा ना? कई हैं जो चमत्कार और भविष्य वाणियाँ करते हैं पर क्या है कोई ऐसा भगवान या गुरु जो मर के जी उठा? सोचियेगा इस बारें में। और जानकारी के लिए पवित्र शास्त्र पढ़े और हमसे बात करें। आओ चलें एक नयी मंजिल पे।

हमसे chat करें
आगे पढ़ना जारी रखें
To Top