fbpx
हमसे जुड़ें

मानसिक थकान को कैसे दूर करें?

मानसिक थकान को कैसे दूर करें?

जीवन

मानसिक थकान को कैसे दूर करें?

हम अक्सर अपनी मानसिक थकान पर ध्यान नहीं देते। अपने मानसिक स्वास्थ्य को लेकर हमारे कान पर जूं भी नहीं रेंगती है पर क्या आप जानते हैं कि ये आपके लिए कितना हानिकारक हो सकता है?
तो इससे बाहर निकलने का क्या समाधान है?

क्या आपने कभी मानसिक थकान महसूस की है? क्या आप जानते हैं कि अगर समय पर इसका इलाज नहीं किया गया तो यह भयानक हो सकता है?

जिंदगी बहुत हसीन है मगर मानसिक थकान के कारण बहुत से लोग इसे एन्जॉय नहीं कर पाते। और बड़े दुख की बात है कि आज के दौर में, सिर्फ बड़े नहीं, बल्कि बच्चे भी मानसिक थकान का शिकार हो रहे हैं।

मानसिक थकान के कारण 

मानसिक थकान के कई कारण होते हैं जैसे काम का स्ट्रेस, रिश्तों में उलझन, भविष्य की चिंता, नींद पूरी न होना इत्यादि। ऐसी बहुत सारी बातें मानसिक थकान का कारण बनती हैं। और जब हम मानसिक रूप से थके हुए होते हैं, तो हम शारीरिक रूप से भी थका हुआ महसूस करते हैं। यह सब दिमाग में है। हमारा शरीर हमारे मन की स्थिति के आधार पर काम करता है।

क्या आपने कभी गौर किया है कि जिस दिन आप किसी बात को लेकर खुश या उत्साहित होते हैं, उस दिन आपको अपने शरीर में एक ऊर्जा महसूस होती है जिस से आप पूरे दिन एक्टिव फील करते हैं। लेकिन जिस दिन आप सुस्त और उदास महसूस करते हैं, आपका शरीर भी कमजोर और आलसी हो जाता है और आपका कोई काम करने का मन नहीं करता है। जब हम जीवन की चिंताओं और विभिन्न भावनाओं से अभिभूत होते हैं, तो हमें मानसिक थकान होने लगती है।

मानसिक थकान से छुटकारा पाना आपके हाथ में है। 

लोग आपको रास्ता दिखा सकते हैं या आपकी थोड़ी मदद कर सकते हैं लेकिन यह मानसिक थकान को दूर करने का प्रयास आप ही को करना है। पर यह कैसे करें?

​​पहली बात सबसे पहले, अपने विचारों को सही और सकारात्मक रखें और सकारात्मक विचारों के साथ अपनी परिस्थितियों से निपटें।

जब हमारे जीवन में चीजें अच्छी नहीं चल रही होती हैं, तो हमारे विचार कभी-कभी अपने आप इतने नकारात्मक हो जाते हैं कि हमें लगने लगता है कि चीजें और खराब हो जाएंगी। ऐसी स्थितियों में, सकारात्मक विचारों के साथ नकारात्मक विचारों का मुकाबला करें। अपने दृष्टिकोण को बदलें। चीजों को सकारात्मक नज़रिए से देखें।

कल्पना कीजिए कि आपकी स्थिति बेहतर होती जा रही है और जब हम ऐसा करते हैं तो हमारे विचार अपने आप बदल जाते हैं और सकारात्मक हो जाते हैं। ये मुश्किल नहीं है। आप करके देखें। आप इसे फायदेमंद पाएंगे।

मानसिक थकान हमें जीवन में आगे बढ़ने से रोकती है। शोधकर्ताओं के अनुसार, मानसिक थकान हमारी इम्यून सिस्टम को कमजोर कर देती है और कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनती है।

हर कोई अपना जीवन बनाने, अपने सपनों को पूरा करने, पढ़ाई, और न जाने क्या-क्या करने में व्यस्त हैं। और ये सब करते-करते जब वे थक जाते हैं, तो वे थोड़ा आराम करते हैं, अपने काम से थोड़ा ब्रेक ले लेते हैं, या फिर छुटियों पर चले जाते हैं। और जब वे वापस लौटते हैं, तो वे तरोताजा महसूस करते हैं और अधिक खुशी और शक्ति के साथ, वे अपने काम और पढ़ाई को फिर से शुरू करते हैं।

मगर, जब मानसिक थकान महसूस होती है, तब बहुत लोगो को नहीं समझ आता की वे क्या करें। और कहीं लोग मानसिक थकान से झूझते-झूझते इतना थक जाते हैं की वो आखिर में हार मान जाते हैं।

मानसिक थकान को दूर करने के लिए नीचे दिए कुछ पॉइंट्स पर ध्यान दें। इस से आपको सहायता मिल सकती है।

  • मेडिटेट करें और अपने परमेश्वर से कनेक्ट करें, वो आपकी मदद करेंगे। बाइबिल में यीशु मसीह कहते हैं कि “मैं तुमसे कहता हूँ अपने जीने के लिये खाने-पीने की चिंता छोड़ दो। अपने शरीर के लिये वस्त्रों की चिंता छोड़ दो। निश्चय ही जीवन भोजन से और शरीर कपड़ों से अधिक महत्वपूर्ण हैं। देखो! आकाश के पक्षी न तो बुआई करते हैं और न कटाई, न ही वे कोठारों में अनाज भरते हैं किन्तु तुम्हारा स्वर्गीय पिता उनका भी पेट भरता है। क्या तुम उनसे कहीं अधिक महत्वपूर्ण नहीं हो? तुम में से क्या कोई ऐसा है जो चिंता करके अपने जीवन काल में एक घड़ी भी और बढ़ा सकता है?” 
  • सकारात्मक विचार रखें।
  • छोटी-छोटी बातों में खुशी तलाशने की कोशिश करें।
  • अपने शौक जैसे गाना गाना, डांस करना, पेंटिंग करना इत्यादि के लिए थोड़ा समय निकालें।
  • अपने परिवार और दोस्तों के साथ वक्त बिताएं।
  • अच्छी नींद लें और अच्छा खाएं और पीएं।
  • किसी से बात करें और मदद लें।
  • ज़िन्दगी को गुज़ारे नहीं, ज़िन्दगी को जीएँ और खुलके जीएँ।

 बाइबिल में प्रभु यीशु मसीह हमें बताते हैं कि “अपनी सारी चिंता मुझ पर डाल दो, क्योंकि मुझे तुम्हारा ध्यान है।” अगर आपको मदद की ज़रूरत है तो नयिमंज़िल से बात करें। 

आगे पढ़ना जारी रखें
आप इन्हे भी पढ़ना पसंद करेंगे ...
To Top