कल्पना और सर्जनशीलता से जीवन में जीते | Imagination | Creativity |
हमसे जुड़ें

कल्पना और सर्जनशीलता से जीवन में जीते | Imagination | Creativity |

कल्पना और सर्जनशीलता से जीवन में जीते | Imagination | Creativity

जीवन

कल्पना और सर्जनशीलता से जीवन में जीते | Imagination | Creativity |

सर्जनशीलता और कल्पना का हमारे जीवन में क्या महत्त्व है? क्या आपके लाइफ़्स्टायल की वजह से आपकी सर्जनशीलता दब सी गयी है? आइए जाने कुछ टिप्स जो आपकी सर्जनशीलता और कल्पना को बाहर निकालने में मदद करती हैं।

सागर की गहराई माप सकता है। ऐ इन्सान, तेरी कल्पना की गहराई माप सकता है कोई भला?

कल्पना और सर्जनशीलता का अर्थ

क्या है कल्पना – हकीकत या सपना? कल्पना शक्ति हमारे दिमाग की वो ताकत है जिससे हम आज में रहते हुए भविष्य की नयी बातें सोचते हैं। सोचिये चार दोस्त बैठ के यूरोप घूमने का प्लान करे, वो प्लानिंग करते हुए अपनी कल्पना शक्ति से पाँच मिनट में यूरोप का पूरा दौरा कर लेते हैं। जैसे कल्पना, सोचने की काबिलियत है वैसे ही सर्जनशीलता कुछ नया बनाने की शक्ति है।

साइकोलॉजी की पढाई करते हुए, इमेजिनेशन, क्रिएटिविटी, परिकल्पना के बारें में ज्यादा जानने की मुझे क्यूरोसिटी हुई। अपने एक प्रोफेसर से पूछा तो उन्होंने समझाया:

  •  कल्पना करना एक मेंटल प्रोसेस है। हमारा दिमाग इमेजिनेशन से ज्यादा याददाश्त या अनुभवों के बेसिस पे काम करता है।
  • हम नया कुछ बनाते नहीं बस पुरानी चीजों या तकनीको को रीसायकल कर प्रस्तुत करते हैं और विचारों की रीसाइक्लिंग को आज के दौर में हम सर्जनशीलता या क्रिएटिविटी कहते हैं।
  • परिकल्पना/उपकल्पना – मान्यताओ पे बेस्ड है जिससे किसी रिसर्च की मदद से हम किसी चीज़ को सही या गलत साबित कर सकते हैं।

सर की बातों को सुनकर मुझे लगा की इन शब्दों की परिभाषा इतनी संक्षिप्त नहीं। यह सोच कर मैंने रिसर्च शुरू किया, उस दौरान मुझे लगा की मेरी और सृष्टि की रचना भी तो किसी ने की है। गूगल पे रिसर्च करते हुए मेरी नज़र एक लिंक पे पड़ी जिसका शीर्षक था “वी आर मेड इन द इमेज ऑफ़ गॉड”। वो ब्लॉग बाइबिल के ईश्वर के बारें में था और उसमे लिखी बातों से मेरा रूझान बाइबिल पढने की ओर हुआ।

वी आर मेड इन द इमेज ऑफ़ गॉड (We are made in the image of God)

उतपत्ति 1:27 ‘इसलिए परमेश्वर ने मनुष्य को अपने स्वरूप में बनाया। परमेश्वर ने मनुष्य को अपने ही स्वरुप में सृजा। परमेश्वर ने उन्हें नर और नारी बनाया।’

भजन संहिता 139:14 हे यहोवा, तुझको उन सभी अचरज भरे कामों के लिये मेरा धन्यवाद, और मैं सचमुच जानता हूँ कि तू जो कुछ करता है वह आश्चर्यपूर्ण है।

1 कुरंथियो 2:16 परन्तु हम में मसीह का मन है

  • बाइबिल की पहली किताब ‘उतपत्ति’ बताती है की ईश्वर एक क्रिएटर गॉड है जिसने इस सृष्टि की रचना की और मनुष्य को अपनी छवि में बनाया है।
  • ईश्वर ने इन्सान को ध्यानपूर्वक और आश्चर्यपूर्ण तरीके से बनाया है।
  • क्योंकि इन्सान ईश्वर की छवि में बना है उस नाते इन्सान के पास मसीह या ईश्वर का दिमाग है।

यह सच जानकर मैं आश्चर्यचकित रह गया। ईश्वर ने मुझे अपने जैसे बनाया है मतलब की मैं भी उसके जैसे कल्पना और सर्जनशीलता की क्षमता रखता हूँ। इस काबिलियत से मैं एक क्रिएटिव और सक्सेसफुल लाइफ जी सकता हूँ।

कल्पना शक्ति और सर्जनशीलता का सही इस्तेमाल

  • सेल्फ हेल्प किताबें या मोटीवेशनल बुक्स पढ़िए जिससे आपको रोज की चीजों को नये तरीके से करने के विचार मिलेंगे।
  • नयी जगहों पे जाइये, लोगो से मिलिए – ऐसा करने से कई कम्युनिटी के लोगो के विचार सुन कर अपने काम करने के तरीके में बेहतरी लाइए। याद रखिये की घूमने और नए लोगो से मिलने से मन फ्रेश होता है और स्थिर/शांत मन नए आइडियाज को विकसित करता है।
  • ड्राइंग, पेंटिंग, क्रिएटिव कुकिंग इत्यादि के इस्तेमाल से ब्रेन को एक्सरसाइज करते रहिये ताकि काल्पनिक शक्ति कम न हो। अकसर बच्चे क्रिएटिव होते हैं पर बड़े होने के साथ डेली लाइफ एक्टिविटी में बिजी हो जाने से उम्र के साथ क्रिएटिव स्किल्स कम होने लगती है। ज़रूरी है की रेगुलरली कुछ नया करते रहें ताकि क्रिएटिव स्किलस कम न हो।
  • इंडोर गेम्स या बोर्ड गेम्स खेलिए – इससे ब्रेन एक्टिव रहेगा। जरुरी है की बिजी लाइफ से कुछ समय निकल कर अपनी एक हॉबी पे फोकस करना। ऐसा करने से ब्रेन एक्टिव रहेगा और क्रिएटिव स्किल्स बढेंगी।
  • बाइबिल के अध्ययन से होशियार बनिए – लोगो को समझिये और उसके अनुसार परिस्थिति से निपटिए। अगर कोई अपनी बातों में उलझाने की कोशिश करे तो होशियारी और विनम्रता से सामना कीजिये। बाइबिल में ऐसे कई उदाहरण है जहाँ यीशु ने लोगो को अपनी बुधिमत्ता से संभाला – जैसे मत्ती 22:16-22 और यूहन्ना 8:3:11
  • ऑफिस या कॉलेज के प्रोजेक्ट्स करते वक्त पुराने वैसे प्रोजेक्ट्स पे अच्छे से रिसर्च करें और गैप एनालिसिस करें। फिर अपने में प्रोजेक्ट में गैप हाईलाइट कर दूसरो से अलग और क्रिएटिव बने।
  • नया सोचिये – अगर जॉब का वेट कर रहे या स्टूडेंट है तो वेकेशन के समय में पैसे कमाने के अलग तरीके आजमाइए। जैसे ट्यूशन, बच्चों के डे-केयर स्कूल में हेल्प, बड़े-बूढों की डॉक्यूमेंट मेंटेनेंस या एलेक्ट्रोंनिक बैंकिंग में हेल्प कर पॉकेट-मनी कमाने के यह कुछ तरीके हो सकते है।

लाइफ में हर प्रॉब्लम का सलूशन है, जरुरी है की फसें ना रहे बल्कि इमेजिनेशन और क्रिएटिविटी से हाल निकले। बेस्ड लाइफ जियें। इस बारें में और जानने के लिए हमसे बात करें। आओ हमारे साथ इस नयी मंजिल पे।


To Top